Facebook SDK

RCS Technology - Rich Communication Services क्या है? Future Of SMS?

आपने कभी न कभी RCS ये शब्द जरूर सुना या देखा होगा. और खासकर अगर आप Jio4GVoice एप्लीकेशन का इस्तेमाल करते है तो दावे के साथ इस RCS शब्द से परिचित होंगे. क्योंकि Jio खुद अपने नॉन 4G (Non- VoLTE) users को कॉल या sms की सुविधा देने के लिए RCS Technology का इस्तेमाल करता है.


दरसल RCS का मतलब Rich Communication Services होता है. और इसके नाम से ही पता चलता है की यह टेक्नोलॉजी हमारे संदेशवहन (Messaging) की प्रक्रिया को और भी बेहतर बनाने के लिए उपयोग की जाती है. असल में RCS एक प्रोटोकॉल है जिसके माध्यम से हम न सिर्फ टेक्स्ट (text) भेज सकते है बल्कि यह हमें मल्टीमीडिया जैसे फोटो, विडियो या अन्य कोई भी डॉक्यूमेंट (document) भेजने की भी सुविधा प्रदान करता है.


rich communication services
Rich Communication Services



यह रीच कम्युनिकेशन सर्विस (RCS) हमारे standard messaging के अनुभव को पूरी तरह से बदल देता है. आज तक हम अपने साधारण SMS (Short Message Service) या MMS (Multimedia Messaging Service) जो भी कार्य करते आ रहे है उसी को एक नये और बेहतर तरीके से करने के लिए इस टेक्नोलॉजी का निर्माण किया गया है जिससे हम किसी भी तरह के फाइल या डॉक्यूमेंट को भेज या प्राप्त कर सकते है.

हालां की यह काम MMS से भी हो सकता है लेकिन उसकी तुलना में RCS हमें बेहद अच्छी quality और साथ ही MMS से ज्यादा सुविधाएँ भी देता है. और सबसे ज्यादा प्रभावित करने की बात तो यह है की हमें यह RCS टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करने के लिए किसी भी प्रकार का शुल्क (standard rate) नहीं देना पड़ेगा क्योंकि यह पूरी तरह से इन्टरनेट के उपयोग से चलेगा.

RCS अब तेजी से सभी नामांकित मोबाइल कम्पनीयों और ऑपरेटर्स द्वारा अपनाया जा रहा है जो SMS की दुनिया में एक revolution सा लाने वाला है. बहुत सी कंपनिया तो इसे अपना भी चुकी है जिसकी लीस्ट में JIO, AirTel और VodaFone जैसी जानीमानी कंपनिया देखने को मिलती है. कोई RCS को rich sms कहता है तो कोई sms+ कहता है लेकिन यह सब एक ही है.

Why RCS/Rich Communication Services? RCS का निर्माण क्यों हुआ?


Rich Communication Services शुरू करने के पीछे वैसे तो कई सारे कारण है लेकिन सबसे मुख्य कारण standard sms में कुछ revolution लाने का कहे तो कुछ गलत नहीं होगा. क्योंकि इस बदलते दौर में smartphones तो बहुत ज्यादा develop हुए है लेकिन सभी मोबाइल्स में sms भेजने के लिए वही ट्रेडिशनल तरीका अपनाया जाता है जिसके माध्यम से हम सिर्फ 160 characters तक का ही मेसेज भेज सकते है. लेकिन आज भी sms की लोकप्रियता को देखते हुए RCS के माध्यम से उसे एक नयी पहचान दी जा रही है.

sms में हम एक बार भेजे हुए मेसेज को सामने वाले ने देखा या नहीं ये नहीं जान सकते थे लेकिन Rich Communication Services की मदद से ये संभव है. यह हमें read receipts की सुविधा देता है जिससे हम जान सकते है की सामने वाले ने मेसेज पढ़ा है या नहीं. यह बिल्कुल उसी तरह है जिस तरह से अभी हम whatsapp या fb messanger पर ticks देखते है.

SMS भेजने के लिए cellular नेटवर्क का होना आवश्यक है. मतलब अगर कही cellular signals नहीं है तो हम मेसेज नहीं भेज सकते और हमें sms भेजने के लिए standard rates भी लागु होते है लेकिन RCS पूरी तरह से इन्टरनेट पर आधारित है इसलिए हमें न कोई charge देने की जरुरत होगी और न ही नेटवर्क की चिंता करनी पड़ेगी. क्योंकि हम wifi के जरिये भी मेसेज भेज या प्राप्त कर सकेंगे.

RCS का हमें एक और बहुत बड़ा फायदा होगा.. RCS के इस्तेमाल से हम whatsapp, fb messanger और imessages जैसे कई जानेमाने एप्लीकेशन के features एक साथ इस्तेमाल कर सकेंगे वो भी बिना कोई एकाउंट खोले और डायरेक्ट अपने फ़ोन से बिना कोई 3rd पार्टी एप्प डाउनलोड किए. और RCS cross platform support भी देगा मतलब हम एक os से दुसरे os पर भी मेसेज भेज सकेंगे.
RCS से न सिर्फ हम टेक्स्ट कर सकेंगे बल्कि साथ ही यह हमें voip के जरिये voice और video कॉल्स करने की भी सुविधा देगा. और इसके साथ हम ग्रुप चैट, ग्रुप कॉल, लोकेशन और फाइल शेयरिंग का भी लुफ्त उठा सकेंगे. RCS को हम शोर्ट मेसेज सर्विस (SMS) का भविष्य भी बोल सकते है.

तो क्या आप RCS को इस्तेमाल करने के लिए बेताब है या आप standard sms इस्तमाल करना ही पसंद करेंगे?? निचे कमेंट करना मत भूलिए!